उत्तराखण्ड पर्यटन रुद्रप्रयाग

केदारनाथ यात्रा तैयारियों को लेकर प्रशासन स्तर पर हलचल हुई तेज,
सीतापुर व सोनप्रयाग पार्किंग की निविदा प्रक्रिया हुई संपंन,
प्रकाश की रोशनी से जगमग होगा गौरीकुंड से केदारनाथ धाम,पैदल यात्रा मार्ग पर लगाई गई 550 स्ट्रीट लाइट,
3150 घोड़े-खच्चरों का हो चुका है बीमा, 200 घोड़े-खच्चरों का फिटनेस प्रमाण-पत्र निर्गत

रुद्रप्रयाग। केदारनाथ यात्रा को लेकर संबंधित विभाग तैयारियों में जुटे हुए हैं। इस वर्ष तीर्थयात्रियों के अधिक संख्या में पहुंचने की उम्मीद है, जिस कारण अधिकारी भी यात्रा व्यवस्थाओं में मुस्तैदी से डटे हैं और तैयारियों को अंतिम रूप देने में लगे हैं।


बता दें कि छः मई से बाबा केदारनाथ की यात्रा शुरू होने जा रही है। ऐसे में जिला प्रशासन स्तर पर हलचल तेज हो गई है। यात्रा से संबंधित विभाग यात्रा तैयारियों में जुट गये हैं। अपर मुख्य अधिकारी जिला पंचायत राजेश कुमार ने बताया कि यात्रा के सफल संचालन के लिए जिला पंचायत द्वारा सोनप्रयाग व सीतापुर पार्किंग की निविदा प्रक्रिया पूरी की जा चुकी है। इसके अलावा यात्रा मार्ग में संचालित होने वाले घोड़ा-खच्चर मालिकों व हाॅकरों का पंजीकरण गतिमान है। उन्होंने बताया कि अभी तक लगभग 2400 घोड़ा-खच्चर मालिकों का पंजीकरण किया जा चुका है तथा कंडी-डंडी के लिए श्रमिकों का पंजीकरण गतिमान है। जिसमें कुल 300 के करीब श्रमिकों का पंजीकरण हो चुका है। साथ ही यात्रा मार्ग में आने वाले ग्रामीण क्षेत्रों के बाजारों में स्वच्छता अभियान के लिए 80 सफाई श्रमिकों की व्यवस्था की जा रही है। मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी डाॅ आशीष रावत ने बताया कि यात्रा काल के लिए अभी तक कुल 3,150 घोड़े-खच्चरों का बीमा किया जा चुका है, जबकि 200 के करीब घोड़े-खच्चरों का फिटनेस प्रमाण-पत्र निर्गत किए जा चुके हैं।

अधिशासी अभियंता विद्युत डीएस चौधरी ने बताया कि गौरीकुंड से केदारनाथ धाम तक यात्रा मार्ग में यात्रियों को किसी प्रकार की रोशनी की दिक्कत न हो, इसके लिए 550 स्ट्रीट लाइट लगाई जा चुकी है। इसके साथ ही सोनप्रयाग शटर व्यवस्था से गौरीकुंड तक डेंजर प्वाइंट पर स्ट्रीट लाइट लगाए जाने की कार्यवाही गतिमान है तथा केदारनाथ धाम में संगम घाट पर 63 केवीए वाॅट का उप संस्थान तैयार किया गया है। इसके साथ ही रामपुर में सौ केवीए वाॅट का ट्रांसफार्मर लगाया गया है तथा सीतापुर एवं फाटा में भी 100 केवीए ट्रांसफार्मर लगाने का कार्य गतिमान है। यात्रा मार्ग में यात्रियों को पेट्रोल, डीजल की असुविधा न हो, इसके लिए जिला पूर्ति विभाग द्वारा पूर्ण व्यवस्था की गई है। जिला पूर्ति अधिकारी मनोज कुमार डोभाल ने बताया कि जनपद में आठ पेट्रोल पंप संचालित हैं, जिन सभी में तीन हजार लीटर पेट्रोल एवं चार हजार लीटर डीजल का स्टाॅक रिजर्व में रखा गया है। वर्तमान में पेट्रोल व डीजल की समस्या नहीं है। उनके द्वारा यात्रा का निरीक्षण किया गया, जिसमें उन्होंने सभी पेट्रोल पंपों में हवा, पानी, शौचालय की व्यवस्था उपलब्ध कराने के निर्देश दिए गए हैं।

साथ ही सभी दुकानों में रेट लिस्ट चस्पा करते हुए सभी दुकानदारों को रेट लिस्ट चस्पा करने के निर्देश दिए गए हैं। सभी होटल व्यवसायियों को व्यवसायिक सिलेंडर उपयोग करने के निर्देश दिए गए हैं। घरेलू सिलेंडर का उपयोग करने पर संबंधित के विरुद्ध आवश्यक कार्यवाही सुनिश्चित की जाएगी।

यात्रा मार्ग में शौचालय की व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए जिलाधिकारी ने सभी अधिशासी अधिकारियों को पूर्व में ही निर्देश दिए गए हैं, जिसके तहत अधिशासी अधिकारी नगर पंचायत तिलवाड़ा वासुदेव डंगवाल ने अवगत कराते हुए कहा कि नगर पंचायत तिलवाड़ा के अंतर्गत पुलिस चैकी, मयाली पुल, गीड़ गदेरा मे दो-दो सीटर की संख्या वाले व रामपुर पुराने पुल के समीप तीन सीटों की संख्या वाले शौचालय पानी सहित तैयार कर लिए गए हैं। बताया कि नगर पंचायत द्वारा दो मोबाइल टाॅयलेट आठ सीटर, जिसमें चार-चार पुरुष व महिलाओं के लिए अगले दो सप्ताह अंतर्गत स्थापित कर दिए जाएंगे। वहीं, नगर पंचायत अगस्त्यमुनि में स्थापित शौचालयों की स्थिति को लेकर अधिशासी अधिकारी विजेंद्र पंवार ने अवगत कराया कि नगर पंचायत अगस्त्यमुनि के कार्यालय के समीप कुल दस सीटर शौचालय उपलब्ध हैं, जिनमें पानी की व्यवस्था उपलब्ध है।

जबकि वार्ड नम्बर दो बेडूबगड़ में पेट्रोल पंप के समीप स्थित तीीन सीटर शौचालय तैयार किया गया है, जिसमें जल संयोजन की कार्यवाही गतिमान है। इसके साथ ही नगर पालिका, नगर पंचायतों द्वारा अपने-अपने क्षेत्रों में नालियों एवं सड़कों की साफ-सफाई व्यवस्था दुरूस्त की जा रही हैं।

Featured

error: Content is protected !!