रुद्रप्रयाग

नगर पंचायत तिलवाडा को शीघ्र मिलेगा अपना नया कार्यालय भवन

रुद्रप्रयाग: नवगठित नगर पंचायत तिलवाडा को अब शीघ्र अपना नया कार्यालय भवन मिलने वाला है। उत्तराखंड शहर विकास विकास की ओर से लगभग एक करोड़ की धनराशि स्वीकृत है। निर्माणदायी संस्था ग्रामीण निर्माण विभाग की ओर से भू गर्भीय सर्वेक्षण कराने के बाद निर्माण की अग्रिम कार्रवाई की जाएगी। हालांकि अभी विस चुनाव के चलते यह मामला लटका पडा है। नगर कार्यालय के कार्यों के संपादन में खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। वर्तमान में व्यवस्था के तौर पर नगर का कार्यालय भवन का संचालन हो रहा है।

वर्ष 2017 में जिले में तिलवाडा नगर पंचायत को स्वीकृति मिली थी। जिसके बाद नवम्बर 2018 में नगर पंचायत के लिए पहले चुनाव हुए थे। शुरूआत अभी समय से न पर्याप्त स्टाप मिला और न बजट। जिससे नगर के कार्यों को करने में खासी दिक्कतें उठानी पड़ी थी। नगर में चारों वाडोंz में लगभग पांच हजार की जनसंख्या है। वर्तमान में जैसे तैसे नगर कार्यालय व्यवस्था के तौर पर चल रहा है। एक सभागार के साथ ही कुछ कमरों में कार्यालय भवन का संचालन हो रहा है। नगर कार्यालय सड़क से सौ मीटर दूरी पर है। जिससे लोगों को आवजाही में खासी दिक्कतें उठानी पड़ती है। जन समस्याओं को देखते हुए नगर पंचायत तिलवाडा ने सड़क मार्ग पर कार्यालय भवन के लिए पुलिस चौकी तिलवाडा के पास, लीसा फैक्ट्री के पास, तिलवाडा पार्किग के पास स्थान लगभग पांच नाली भूमि चयन किया। लीसा फैक्ट्री के पास कच्ची जमीन होने के बाद यह का प्रस्ताव रदद हो गया था। पूर्व में नगर पंचायत ने कार्यालय भवन के लिए शासन को प्रस्ताव भेजा था। जिसके बाद नगर पंचायत कार्यालय निर्माण के लिए शहरी विकास विभाग की ओर से गत जून माह में लगभग एक करोड़ का बजट स्वीकृत हुआ था। कार्यालय भवन निर्माण की जिम्मेदारी निर्माणदायी संस्था ग्रामीण निर्माण विभाग रुद्रप्रयाग को दी गई है। विभाग की ओर से चयनित स्थानों की भूगर्भीय जांच कराने के बाद निर्माण की प्रक्रिया शुरू की जाएगी। हालांकि अभी विधान सभा चुनाव की आचार संहिता लगने से मामला लटक गया है। विस चुनाव संपन्न होने के बाद भी इस दिशा में पहल की जाएगी।

वहीं नगर पंचायत अध्यक्ष संजू जगवाण ने बताया कि नगर पंचायत कार्यालय भवन निर्माण के लिए शासन स्तर से लगभग एक करोड़ का बजट स्वीकृत है। नगर पंचायत की ओर से विभिन्न स्थानों पर भवन निर्माण के लिए भूमि भी चयनित है। निर्माणदायी संस्था आरईएस ने भूमि की भूगर्भीय जांच की प्रक्रिया की है। जांच रिपोर्ट आने के बाद ही भवन निर्माण की प्रक्रिया की जाएगी।

Featured

error: Content is protected !!